Sunday, March 28, 2010

स्प्रिंग पर टिके सर वाले खिलोने

आज हमारी कहानी के पात्र हैं स्प्रिंग पर टिके सर वाले खिलोने. आप सब  इसे बचपन से अब तक देखते आ रहे होंगे.
स्प्रिंग वाले बूढ़े और बुढ़िया. जरा सा स्प्रिंग हिला दो और देखो कमाल. सच में कभी आपने देखा हैं हैं कितनी बाल सुलभ होती हैं इनकी मुस्कान. बूढ़े और बुढ़िया का जोड़ा हमारे लखनऊ के त्रिवेनीनगर में रहता था  . साथ में सुबह मोर्निंग वाक् और शोपिंग करते थे . बेटे और बेटिया सभी बाहर हैं.. मेरा उनके घर आना जाना हैं. उनकी छोटी बेटी से जान पहचान थी. अब छोटी बेटी बंगलौर में settle हैं.
अब कहानी आगे बढ़ाते हैं. अक्सर मैं उनके घर जाता तो पूछता की कोई काम तो नहीं लेकिन वो बेटा एक्टिव रहने के लिए अपना काम खुद करना चाहिए बस तुम आ जाते हो तस्सली हो जाती हैं. एक बार शर्मा अंकल फीवर में थे और मैं पहुच गया और डॉक्टर के पास ले गया आंटी बहुत परेशान थी कहने लगी बुढापे में अकेलापन बहुत खलता हैं. मैं १५ दिन में एक बार हालचाल जरूर ले लेता था. बात पिछले साल की हैं. शर्मा अंकल हम उन्हें इसी नाम से बुलाते हैं का दिवाली पर फ़ोन आया की बेटा बंटू आ रहा हैं अब वो लखनऊ में tcs में ज्वाइन करेगा.बहू भी लखनऊ में रहेगी. कुछ दिनों बाद बेटा बहू आ गए और शर्मा अंकल आंटी के दिन ख़ुशी से कटने लगे. decmember में जब शर्मा अंकल से मिलने गया तो बोले बेटा बाहर जाना चाहता हैं. क्या करूं. हमने पूछा कहाँ. वो बोले दुबई. मैंने बंटू से कहा वह तो मंदी हैं. लेकिन वो बोला सब कुछ final हैं. खैर शर्मा अंकल के बेटा बहू फिर चले गए. बूढ़े और बुढ़िया के जीवन में फिर से एकाकीपन आ गया. मैंने बहुत करीब से महसूस किया हैं बूढ़े और बुढ़िया का दर्द. हम और आप में से तरक्की के लिए घर छोड़ कर जाने में जरा भी नहीं सोचते लेकिन माँ बाप की आँखों से नींद चली जाती हैं. अक्सर मैं उनको कभी सब्जी लेते तो कभी टहलते देखा करता था. कुछ दिनों से नुझे भी समय नहीं मिला और सच कहूं तो धयान भी नहीं दिया. दो महीने बीत गए किसी ने बताया की शर्मा जी तो कई दिनों से अस्पताल में हैं उनकी कमर की हड्डी टूट गयी हैं. मैं अस्पताल पंहुचा तो वो बोले बेटा इस बार आने में तुमने देर कर दी तुम्हारी आंटी तो अब नहीं रही. बंटू भी नहीं आ पाया या कह लो की आया ही नहीं . मै तो अवाक रह गया. बातचीत में पता चला की आंटी की मौत तो सड़क हादसे में हुई थी जब वो सड़क पार कर रही थी. इस घटना का पता शर्मा जी को भी बाद में लग पाया. आंटी उन्ही की दवा लेने मार्केट आई थी. जब मैंने घर में बताया तो मम्मी बहुत नाराज हुई. 15 मार्च को शर्मा जी का फ़ोन आया वो बोले बेटा बंटू आ रहा हैं. दुबई में उसकी नौकरी छूट गए हैं. मैंने महसूस किया की अंकल की आवाज में ख़ुशी नहीं थी. वो आगे बोले बंटू के लिए कमरा खोज दो. मै जितने दिन हूँ अकेले ही तुम्हारी आंटी की यादो के साथ अपने मकान में रहना चाहता हूँ.बस. मैं उनके घर कल पहुचा तो देखा की वो बिलकुल शांत हैं. मुझे देख वो उठे और बोले बेटा तरक्की किसे कहते हैं. क्या ऐसे ही आगे बड़ा जाता हैं. अपने बेटे से बेहद नाराज. मेरी नज़र सामने की अलमारी पर पड़ी वहा स्प्रिंग वाले बूढ़े और बुढ़िया रखे थे. खिलोनो की स्प्रिंग खराब हो चुकी थी सर लटक रहे थे लेकिन मुस्कराहट कायम थी. इधर शर्मा जी भी इन खिलोनो की तरह थे जोड़ा टूट गया था और चेहरे की मुस्कराहट उजड़ चुकी थी. जाते जाते अंकल बोले तुम ऐसी तरक्की मत कर लेना की अपने माँ बाप को छोड़ देना और आते जाते बने रहना पता नहीं ये खिलौना कब टूट जाए. सुन कर मैं वहा से चला आया. क्रमश...

6 comments:

  1. kya baat hai kamleshji...daily post dali jaa rahi hai...khushi hui ki ap bhi blog pe aa gaye...aise hi hauk ke dete rahiye performance...kabhi fursat miley to bhai ka blog ajayendra.blogspot.com bhi ghoom aayiyega...tk care

    ReplyDelete
  2. spring wale khilaune.......ab bujurg khilaune hi rah gaye hain? aur ham khelne wale .......
    lekin shayad ham bhool gaye ki tamasha khud na ban jao tamasha dekhne walon...
    well done..aise najuk mudde uthate rahiye...best of luck

    ReplyDelete
  3. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  4. आपके ब्लॉग पर आकर कुछ तसल्ली हुई.ठीक लिखते हो. सफ़र जारी रखें.पूरी तबीयत के साथ लिखते रहें.टिप्पणियों का इन्तजार नहीं करें.वे आयेगी तो अच्छा है.नहीं भी आये तो क्या.हमारा लिखा कभी तो रंग लाएगा. वैसे भी साहित्य अपने मन की खुशी के लिए भी होता रहा है.
    चलता हु.फिर आउंगा.और ब्लोगों का भी सफ़र करके अपनी राय देते रहेंगे तो लोग आपको भी पढ़ते रहेंगे.
    सादर,

    माणिक
    आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से सीधा जुड़ाव साथ ही कई गैर सरकारी मंचों से अनौपचारिक जुड़ाव
    http://apnimaati.blogspot.com


    अपने ब्लॉग / वेबसाइट का मुफ्त में पंजीकरण हेतु यहाँ सफ़र करिएगा.
    www.apnimaati.feedcluster.com

    ReplyDelete
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  6. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete